श्री घंटाकर्ण महावीर का अति प्रभावशाली स्तोत्र

0
7640
ghantakarn mahaveer, jainmantras
श्री घंटाकर्ण महावीर का अति  प्रभावशाली  स्तोत्र:
श्री घंटाकर्ण महावीर के अति  प्रभावशाली  स्तोत्र को एकदम सही तरीके से पढ़ना हर किसी के बस की बात नहीं है.
इनका मंत्र तो और भी प्रभावशाली है. जो उसे सही तरीके से उच्चारण ना करे, तो इनके क्रुद्ध होने की ही सम्भावना ज्यादा है.
 
विस्फोटक शब्द का उच्चारण यदि सही तरीके से किया जाए तो पास में खड़ा व्यक्ति भी एक बार घबरा जाएगा. यदि उसकी हमारे प्रति दुर्भावना है तो वहां से तुरंत खिसक लेगा.
 
इस मंत्र में कुछ मन्त्राक्षर ऐसे हैं जो स्त्रियों को बोलने का अधिकार नहीं है
जैसे कि ठ: ठ: ठ:
 
मेरी एक अन्य पोस्ट में मैंने बताया है कि स्त्रियां सुख पाने के लिए घंटाकर्ण महावीर का स्तोत्र ना पढ़कर पद्मावती माता अष्टक” और उनका मंत्र जप करें.
 
जिन्हें अपने करियर (career) की ही चिंता अधिक है, परिवार की नहीं, वो घंटाकर्ण महावीर का स्तोत्र पढ़ सकती हैं, पर मेरी राय में ना पढ़े.
सिर्फ उन्हें “नमस्कार” करें.
 
मैंने उन स्त्रियों को सुखी नहीं देखा है जो नाकोड़ा भैरव देव का चालीसा या घंटाकर्ण महावीर का स्तोत्र पढ़ती हैं. ये मेरा अनुभव है.
(वैसे किसी भी पुस्तक में स्त्रियां ये स्तोत्र ना पढ़ें, ऐसा कहीं लिखा हुआ नहीं है).
फोटो (by SKR) : श्री घंटाकर्ण महावीर, श्री नागेश्वर पार्श्वनाथ तीर्थ, डुमस रोड, सूरत.