पार्श्वनाथ स्वामी

कुछ लोगों क़े लिए

भैरूंजी, पितरजी, इत्यादि

बहुत बड़े देव हैं.

जबकि जैन धर्म क़े अनुसार वे क्षेत्रपाल  हैं.

 

पितरजी –

अपने घर क़े दायरे और अपने कुल तक ही इनकी चलती हैं,

भैरूंजी – इनकी अपने क्षेत्र तक ही चलती हैं.

आप किसकी भक्ति कर रहे है?

 

फोटो:

अति प्रभावशाली श्री अज़ाहरा पार्श्वनाथ,

अज़ाहरा, तालुका उना, गुजरात